Oct 8, 2014

बिलावल मियाँ अपनी टांग फट्टे में ना फसाओं -गिरधारी भार्गव

Posted at  6:28 AM - by Admin 0

बिलावल मियाँ अपनी टांग फट्टे में ना फसाओं वरना टांग ही नही रहेगी। 
पहले अपनी अराजकता,आंतकवादअप्रजातांत्रिक शासन,
“बिगडेल ISI और निरंकुश फौज” से निपट लो।
----- नही तो ----
"नाना" की तरह "फांसी" पाओगे या "माँ" की तरह "उड़ा" दिये जाओगे।
या "मुशर्रफ" और "नवाज शरीफ" की तरह पाकिस्तान से "भगा" दिये जाओगे।
----------------------
कश्मीर की - तो - बात ही मत सोचो,
पहले अपने "गिरेबान" में "खुद" ही झांक कर देख लो,
नही तो "आइना: हम दिखा देते है।
---------------------
"पाकिस्तान के गले की फांस"
"सिन्ध और बलोचिस्तान"

{1अंग्रेजों ने बलोचिस्तान और नेपाल” को हमेशा भारत से अलग देश माना और कभी भी भारत के साथ नही माना थाइन के साथ सदा से अलग ही बर्ताव होता था जो की हकीकत में ही अलग ही देश थे।
{2भारत के टुकड़े” करने से पहले ही इन्हें अलग से आजाद” कर दिया गया था।
{3इसी वजह से बलोचिस्तान को भारत से 4 दिन और पाकिस्तान से 3 दिन पहले,
{4यानि 11 अगस्त को ही अलग से आजादी” दे दी थी।

{5मित्रोंहम सब जानते हैं कि पाकिस्तान ने 14 अगस्त 1947 को बनने के बाद,
अगले साल 1948 में पाकिस्तान ने सैन्य कार्यवाही” करके बलोचिस्तान” पर ज़बरदस्ती कब्ज़ा” किया था । (उससे पहले बलोचिस्तान एक आज़ाद देश था)

{6तबसे लेकर आज तक कितने ही लाखों “ISI और पाकिस्तानी फौज” के हाथो "बलोच” लोग मारे जा चुके हैं, ISI या तो मार देती है या  गायब  कर देती हैंजो लोग ISI के हाथों प्रताड़ित होते रहते हैउसका कोई हिसाब ही नहीं है।

{7गौरतलब है कि पाकिस्तान के आधे से भी ज़्यादा शिया मुसलमान” सिर्फ बलोचिस्तान” में रहते हैं,"पाकिस्तानी फ़ौज और ISI"के हाथों बेक़सूर "बलोच" लोगों ने कई दशकों तक अमानवीय अत्याचार झेले हैंऔर आज भी झेल ही रहे हैं..

{8बलोचिस्तान की कोई खबर पाकिस्तान की mainstream media में शायद ही आती है क्योंकि वहां की ज़्यादातर खबरें पंजाबी पाकिस्तानियों द्वारा प्रतिबंधित हैं...

{9बलोचिस्तान की आज़ादी के लिए लड़ रहे ज़्यादातर बलोच नेता निर्वासित हो के यूरोपीय देशों में रह रहे हैं और उन्ही के ज़रिये बलोचिस्तान की खबरें हम तक पहुँचती हैं...

{10जिनको मालूम नहीं कि बलोचिस्तान के सबसे बड़े स्वतंत्रता सेनानीऔर भारत के समर्थक,
"नवाब अकबर खान बुगती" को किस तरह से मुशर्रफ ने 2006 में साज़िश रचके बलोचिस्तान के Dera Bugti शहर में मरवाया था,वो एक बार इनके बारे में गूगल में ज़रूर सर्च करके पढ़ लें..

{11लेकिन अबपाकिस्तान के एक और प्रांतसिंध” जहाँ पाकिस्तान के सबसे ज़्यादा हिन्दू रहते हैंउन का भी यही हाल हो रहा है... सिंधी लोग” किस हद तक पंजाबी पाकिस्तान” के अत्याचारों को झेलने पे मजबूर हो रहे हैं..

{12गौरतलब है कि जिस तरह से बलोचिस्तान एक आज़ाद देश,” आज़ाद बलोचिस्तान के लिए कई सालों से लड़ रहा हैठीक उसी तरह सिंधी” भी आज़ाद सिंधुदेश” के लिए अपनी आवाज़ बुलंद कर रहे हैं..

{13सिन्धी लोगों ने संघर्ष के लिए एक -"जिये सिन्ध"- नाम से संगठन भी बना रखा है,
जिस के "लाल झंडे में कुल्हाड़ी" का चिन्ह अंकित है,
हमारे "वन्देमातरम गीत" की ही तरह उनका भी एक बहुत मशहूर गीत है,
"जिये सिन्ध जिये - सिन्ध वाला जिये" ये हर सिन्धी की जुबान पर रहता है.. 

{14सिंध में आज कि तारीख में दुनिया के सबसे भीषण शिया-सुन्नी” संघर्षों में से एक चल रहा है.. अहमदिया और हज़ारा मुसलमानों” का सबसे ज़्यादा नरसंहार भी सिंध” में ही हो रहा है..
यहाँ तक कि हिन्दुओं पर भी सबसे ज़्यादा अत्याचार यहीं हो रहा है -
ये सब "पंजाबीवहाबी पाकिस्तानियों" की बदौलत..
{15जहाँ तक पश्तून/पठानों” का सवाल हैये तो मूलतः पाकिस्तान के हैं ही नहीं...
ये तो मूलतः अफ़ग़ानिस्तान” के निवासी हैं..
{16}1897 में DURAND LINE AGREEMENT करके अंग्रेज़ों ने धोखे से पश्तूनों की धरती के दो टुकड़े कर दिए थे,
{17इसी वजह से 50 साल बाद 1947 में जब भारत आज़ाद हुआ और साथ हीविभाजन की वजह से पाकिस्तान भी बनातब करीब आधे पश्तून लोग अंग्रेजों के द्वारा की गयी "तोड़ फोड़" के कारण  {DURAND LINE AGREEMENT} khyber - pakhtunwa प्रांत के साथ पाकिस्तान का हिस्सा बन गए थे...
{18लेकिन आज भी पश्तून लोग ज़्यादातर मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैंबहुत से पश्तून लोग आज भी गुफाओं में आदिवासियों जैसा जीवन बिता रहे हैं...
{19पंजाबी पाकिस्तानियों ने आज तक कितने पश्तूनों को मारा है,
इसका पूरा "कच्चा चिटठा" जर्मनीऑस्ट्रेलियाजापान और New Zealand जैसे देशों के कुछ अखबारों ने भी खोला है पूरा विस्तार से...आज भी खोलते रहते है..
{20पाकिस्तान में भले ही चार राज्य होंलेकिन सच्चाई यह है कि सिर्फ पंजाब ने बाकी के पाकिस्तान को अपना गुलाम बनाया हुआ है..
{21एक मुसलमान देश होते हुए भी दुनिया में सबसे ज़्यादा मुसलमान इस पाकिस्तान ने ही मारे हैं..
खुद पाकिस्तान में अब तक कितने बलोचपश्तून/पठान और सिंधी मुसलमान” मारे जा चुके हैं,
उसका कोई हिसाब ही नहीं है...
{22} जो लुट अंग्रेजों ने भारत में मचाई थी -- वेसी ही “लुट” आज “पाकिस्तानी हुकुमत” ने बलोचिस्तान के “प्राक्रतिक संसाधनो” के दोहन के लिए पिछले 60 सालों से बलोचिस्तान में मचा रखी है, बलोचिस्तान में “प्राक्रतिक संसाधनों” के “भरपूर भंडार” है..
{23भारत भूमि के “अभिन्न अंग कश्मीर” का सपना देखने वालो के पास खुद का क्या बचेगा..??..
----------------
अगर “कोई भाई” देख सके तो कुछ “वीडियो लिंक” भी दे रहा हूँ ताकि “सच्चाई” सभी के सामने आये।
क्यों की पहले “नाना फिर माँ” और अब ये “बिलबिल” बहुत “बिलबिला” रहा है...
-----------------------
“सिन्ध और बलोचिस्तान” के लिये 6 वीडियो लिन्क दिये हैं जिस में नम्बर “6—3” बहुत महत्वपूर्ण है..
{1} पाकिस्तान सिन्ध का हमारे “वन्देमातरम” जैसा गीत “जिये सिन्ध” जो हर सिन्धी की जुबान पर है...
इस में वीडियो में कलाकार जब भी बैठा दिखेगा तो उस की गोदी में “जिये सिन्ध” संघठन का चिन्ह “कुल्हाड़ी” रखी नजर आयेगी..
{2} टीवी वार्ता में क्या कहती है “बलोच लड़की”
“बलोच छात्रों” से “पाक टीवी” का “स्पेशल कार्यकम”.. 
{3} पोस्ट के एक एक शब्द को सही साबित करता है ये वीडियों
“हमीद मीर की बलोचिस्तान कोंफ्रेंस”
{4} बलोचिस्तान बनेगा अगला बंगलादेश
{5} एक और वीडियो पोस्ट को सही साबित करता हुआ..
{6}अगर आप देख सके तो ज्ञान भी बढ़ेगा और मजा भी आयेगा..
“बलोच छात्रों” से “पाक टीवी” का स्पेशल कार्यकम..

-- गिरधारी भार्गव -- 24.9.2014



About the Author

Write admin description here..

0 comments:

Contact Us

Name

Email *

Message *

Google+ Followers

Followers

WP Theme-junkie converted by Blogger template